• January 14, 2022

यात्रा वृतांत क्या होता है | Yatra Vritant in Hindi

Spread the love

यात्रा वृतांत क्या होता है, यात्रा वृतांत का परिचय या यात्रा साहित्य का परिचय

यात्रा वृतांत क्या होता है

यात्रा करना हर मनुष्य की नैसर्गिक प्रविर्ती है , मानव की विकास गाथा में यायावरी का महत्वपूर्ण योगदान है, हर मनुष्य या हर कोई कभी न कभी कही न कही यात्रा जरुरु करता है , लेकिन सृजानत्मक प्रतिभा के धनि अपने यात्रा अनुभवों को पाठको को सम्मुख प्रस्तुति कर यात्रा साहित्य की रचना करने में सछम हो जाते है। जब कोई लेखक अपने द्वारा की गई किसी यात्रा का वास्तविक कलात्मक या साहित्यिक वर्णन करता है , तो ऐसी रचन को यात्रा वृतांत या यात्रा साहित्य कहते है।

यात्रा वृतांत की परिभाषा या यात्रा साहित्य की परिभाषा

यात्रा वृतांत साहित्य की एक विशिष्ट विधा है। इसमें रचनाकार किसी यात्रा का प्रमाणिक वर्णन करता है।

कुछ प्रमुख लेख –
रामनरायण मिश्रा – यूरोप के छह मास 1932
सेठ गोविन्ददास – पृथ्वी परिक्रमा 1954
राहुल सांस्कृत्यायन – मेरी तिब्बत यात्रा 1937
रामधारीसिंह “दिनकर” – देश विदेश 1975
यशपाल – लोहे की दीवार के दोनों ओर 1953
मोहन राकेश – आखिरी चट्टान तक 1953
अमृतराय – सुबह के रंग
अज्ञेय – अरे यायावर रहेगा याद 1953

मेरी यूरोप यात्रा के लेखक कौन है?

मेरी यूरोप यात्रा के लेखक राहुल सांकृत्यायन है, 9 अप्रैल 1893 – 14 अप्रैल 1963 राहुल सांकृत्यायन जिन्हें महापंडित की उपाधि से सम्मानित किया जाता है, एक प्रमुख हिंदी साहित्यकार थे।

वर्ण किसे कहते हैं | Varn kise kehte hain

दुनिया का 10 सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *