• December 27, 2021

Visheshan kise kahate hain | विशेषण किसे कहते हैं

Spread the love

विशेषण किसे कहते है | Visheshan kise kahate hain aur uske bhed | विशेषण कितने प्रकार के होते हैं | विशेषण की परिभाषा | विशेषण के भेद | विशेषण के कितने भेद हैं उदाहरण सहित लिखिए – संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्दो को हम विशेषण कहते है। तो आज हम इस लेख में विशेषण के बारे में पढ़ेंगे और विस्तार से समझेंगे की विशेषण क्या है , विशेषण को English में adjective कहते है।-Visheshan kise kahate hain

विशेषण की परिभाषा | visheshan ki paribhasha

विशेषण शब्द की विशेषता बताता है, विशेषण कभी कभी संज्ञा की विशेषता बताते है , और कभी कभी सर्वनाम की भी विशेषता बताते है , तो संज्ञा या फिर सर्वनाम की विशेषता बताते है , विशेषण हमेशा सिर्फ दो ही चीज की विशेषता बताते है , संज्ञा या तो सर्वनाम विशेषण कभी और किसी भी चीज की विशेषता नहीं बताएँगे , विशेषण अगर संज्ञा की विशेषता बता रहे है या सर्वनाम की विशेषता बता रहे , तो जो संज्ञा शब्द है , तो इस संज्ञा शब्द को विशेष्य कहेंगे। इस का मतलब जिनकी विशेषता बताई जाती है उन्हें विशेष्य कहा जाता है। और फिर विशेषता बताने वाले शब्दो को विशेषण कहा जाता है।

विशेषण कितने प्रकार के होते है | विशेषण के कितने भाग होते है।

विशेषण के चार प्रकार होते है , या चार भाग होते है ,
१- सार्वनामिक विशेषण या संकेतवाचक विशेषण
२- गुणवाचक विशेषण
३- संख्यावाचक विशेषण
४- परिमाणवाचक विशेषण

प्रश्न – Question
संज्ञा और सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्द को हम क्या कहते हैं।
१- विशेष्य
२- संज्ञा
३- सर्वनाम
४- विशेषण

जब किसी शब्द की विशेषता बताई जाए , तो उसे क्या कहते हैं।
१- वाक्य
२- विशेषण
३- विशेष्य
४- वाक्य

इन चार विकल्पों में से कौन-सा विशेषण का भेद नहीं हैं।
१- गुणवाचक
२- सार्वनामिक
३- संख्यावाचक
४- व्यक्तिवाचक

हिंदी व्याकरण पुस्तक लिंक आप इस लिंक के माध्यम से सभी प्रकार की पुस्तक खरीद सकते हैं

visheshan ke udaharan | विशेषण के उदाहरण

  • ऐसी किताब कही नहीं मिलेगी।
  • कोई इंसान ही ऐसा कर सकता है , जानवर नहीं
  • वैसा लड़का भगवान सबको दें।
  • दुष्ट व्यक्ति अपनी दुष्टता कभी नहीं छोड़ता
  • मुझे ज्यादा चमकीला कपड़ा पहनना पसंद नहीं है।
  • वह कमरा चौकोर है।
  • आप हमेशा छेत्रिय बोली में बोलते है।
  • उस घर की बाहरी दीवार खराब हो गई है।
  • उस दीवार पर छोटा सा चित्र चिपकाया गया है
  • उसे इस वर्ष तिगुना मुनाफा हुआ।
  • दोनों भाई पढ़ने में होशियार है।
  • अयोध्या के प्रत्येक घर में राम की मूर्ति मिलती है।
  • देश का हर-एक के व्यक्ति ईमानदार है
  • कुछ लोग दुसरो को कष्ट देने में आनंदभूति करते है।
  • ज्यादा आदमी से काम अच्छा हो ये जरुरी नहीं।

सार्वनामिक विशेषण या संकेतवाचक विशेषण

१- सार्वनामिक विशेषण या संकेत वाचक विशेषण
( यह , वह , ये , वे , ऐसी , वैसी , वैसा , ऐसा , कोई )
सार्वनामिक विशेषण को संकेतवाचक विशेषण भी कहा जाता है क्युकी ये संकेत करते है- यह , वह , ये , वे , ऐसी , वैसी , वैसा , ऐसा , कोई इनमे से कोई भी शब्द आता है किसी वाक्य में तो वह सार्वनामिक या संकेतवाचक विशेषण होगा। इन शब्दो के बाद कोई संज्ञा शब्द आता है और ये शब्द उन संज्ञा शब्द की विशेषता बताते है तो ये सार्वनामिक विशेषण होंगे।

प्रश्न – Question
विशेषण के भेद कितने होते हैं।
१- ४
२- २
३- ६
४- ८

विशेषण शब्द जिन शब्दो का विशेषता बताता हैं , उन्हें क्या कहते हैं।
१- विशेषण
२- विशेष्य
३- संज्ञा
४- प्रतिविशेषण

इतिहास का विशेषण का रूप क्या हैं।
१- इतिहास
२- इतिहासात्मक
३- ऐतिहासिक
४- इतिहासिक

संकेतवाचक विशेषण के उदाहरण

जैसे – १-ऐसी किताब कही नहीं मिलेगी। इस वाक्य में ऐसी शब्द है तो विशेषण इस वाक्य में ऐसी शब्द जो की सर्वनाम है यह किताब जो की संज्ञा है ये इसकी विशेषता बता रहा है। और सर्वनाम होने के नाते और विशेषता बताने के कारण ऐसी शब्द में विशेषण का गन आगया मगर ऐसी शब्द सर्वनाम होने के नाते इसे सार्वनामिक कहेंगे और विशेषण जोड़ देंगे इसके साथ तो यह हो जायेगा सर्वनामिल विशेषण या फिर संकेतवाचक विशेषण।

२- कोई इंसान ही ऐसा कर सकता है , जानवर नहीं – अब इस वाक्य में कोई शब्द ये सर्वनाम है , और ये इंसान शब्द की विशेषता बता रहा है , तो इंसान शब्द विशेष्य होगया क्युकी इस इस शब्द की विशेषता बताई जा रही है। और जो शब्द इस शब्द की विशेषता बता रहा है , वे शब्द सर्वनाम है। तो जब सर्वनाम शब्द विशेषता बताता है , तो हम उसे सर्वनामिक विशेषण कहेंगे , विशेषण का काम है विशेषता बताना , किसी शब्द की विशेष चीजों को बताना।

३- वैसा लड़का भगवान सबको दें। – अब इस वाक्य में लड़के के अंदर कुछ खूबी के तरफ संकेत किया जा रहा है , की वैसा लड़का भगवान सबको दें , तो वैसा शब्द इस लड़का संज्ञा शब्द की विशेषता बता रहा है , तो लड़का शब्द विशेष और वैसा शब्द विशेषण तो ये सार्वनामिक विशेषण होगा।

गुणवाचक विशेषण | gunvachak visheshan

२- गुणवाचक विशेषण –
गुण का अर्थ किसी भी तरह का गुण या किसी भी तरह की quality हो सकती है , रंग रूप का गुण हो सकता है , आकर प्रकार का गुण हो सकता है किसी भी चीज का गुण हो सकता है। गुण शब्द में तरह तरह की चीजे छिपी होती है। गुण दो तरह के होते है एक अच्छे गुण और दूसरा बुरे गुण जैसे – ईमानदार लड़का और बेईमान लड़का तो ईमानदार अच्छा गुण है और बेईमान बुरा गुण है। वाचक शब्द जहा जहा लगा है वाचक का मतलब बताने वाला , गुण बताने वाला ऐसा विशेषण शब्द जो गुण बताए। ( गुण , रूप , रंग , आकर , प्रकार , स्थान , काल , दशा , दिशा , दोष ) ये शब्द बताने वाले शब्दो में अगर एक विशेषता पाई जाती है , तो उनको हम गुण वाचकविशेषण कहेंगे।

gunvachak visheshan ke udaharan | गुणवाचक विशेषण के उदाहरण

जैसे – १- दुष्ट व्यक्ति अपनी दुष्टता कभी नहीं छोड़ता। – तो दुष्ट शब्द के साथ व्यक्ति शब्द है तो ये दुष्ट व्यक्ति तो यहाँ पर व्यक्ति की विशेषता दुष्ट शब्द बता रहा है की ये व्यक्ति दुष्ट है , तो ये दुष्ट शब्द व्यक्ति का गुण बता रहा है की ये व्यक्ति दुष्ट है और इस व्यक्ति का गुण बुरा है , तो ये गुणवाचक विशेषण हो जायेगा क्युकी इस वाक्य में किसी न किसी तरह का गुण बता रहा है।

२- मुझे ज्यादा चमकीला कपड़ा पहनना पसंद नहीं है। – तो इस वाक्य में कपड़ा की विशेषता चमकीला बता रहा है , तो चमकीला शब्द कपड़ा का गुण पड़ा रहा है की कपड़ा चमकीला है तो यह गुणवाचक शब्द हो जायेगा , रंग भी गुणवाचक विशेषण में आता है , कपड़ा कैसा है चमकीला तो कपड़े का रंग रूप चमकीला है , तो चमकीला शब्द गुणवाचक विशेषण हो जायेगा , तो अब हम जा लिए की चमकीला शब्द विशेषण है लेकिन इस चमकीला शब्द का विशेषण बताने वाला भी एक शब्द है , की जो चमकीला शब्द जो है वह ज्यादा चमकीला है , तो इस वाक्य में जो ज्यादा शब्द है , वह चमकीला शब्द की विशेषता बता रहा है , तो हम ज्यादा शब्द को प्रविशेषण कहेंगे , प्रविशेषण का अर्थ है जो विशेषण शब्द की भी विशेषता बताता हो।

गुणवाचक विशेषण के अन्य उदाहरण

३- वह कमरा चौकोर है। – इस वाक्य में वह कमरा चौकोर है , तो कमरा कैसा है कमरा चौकोर है , वह के बाद कमरा आरहा है , तो एक चीज का नाम है , तो कमरा शब्द संज्ञा हो गया , लेकिन वह शब्द कमरा शब्द की विशेषता बता रहा है। तो वह शब्द सार्वनामिक विशेषण हो जायेगा और चौकोर शब्द गुणवाचक विशेषण हो जायेगा , क्युकी चौकोर शब्द कमरा का आकर बता रहा है। तो चौकोर कमरा का गुण बता रहा है।

४- आप हमेशा छेत्रिय बोली में बोलते है। – तो इस वाक्य में बोली शब्द का अर्थ जिसको लिखा न जा सके सिर्फ बोला जा सके उसे बोली कहते है। जो की छेत्र विशेष के लोग बोली का प्रयोग करते है। जैसे – अवधि एक जमाएं में बोली थी लेकिन अब भाषा है। तो छेत्रिय बोली तो यहाँ छेत्रिय शब्द स्थान की विशेषता बता रहा है की छेत्रिय बोली तो यह गुणवाचक विशेषण हो जायेगा।

५- उस घर की बाहरी दीवार खराब हो गई है। – तो इस वाक्य में तो दीवार शब्द संज्ञा है , दीवार शब्द की विशेषता बाहरी शब्द बता रहा है , इस घर की बाहरी दीवार ख़राब हो गई है , तो बाहरी शब्द स्थान बता रहा है, की बाहरी दीवार खराब हो गया है। तो यह गुणवाचक विशेषण हो जायेगा।

६- उस दीवार पर छोटा सा चित्र चिपकाया गया है। – तो इस वाक्य में चित्र शब्द की विशेषता छोटा-सा शब्द बता रहा है , छोटा-सा ये शब्द आकर बता रहा है , तो दीवार पर चिपका चित्र कैसा है , छोटा-सा है , तो ये भी गुणवाचक विशेषण हो जायेगा।

संख्यावाचक विशेषण | sankhya vachak visheshan

संख्यावाचक विशेषण –
जो शब्द आवृति वाले होते है , दोगुना , तीनगुना , चारगुना , पांचगुना, तो जो ये गुना लगता है , जहा आवृति होती रहती है , तो वह संख्यावाचक विशेषण होता है।
संख्यावाचक विशेषण कितने प्रकार के होते है –
संख्यावाचक विशेषण दो प्रकार के होते है
– १- निश्चयवाचक संख्याविशेषण और २- अनिश्चयवाचक संख्याविशेषण

निश्चयवाचक संख्याविशेषण

निश्चयवाचक संख्याविशेषण – ( एक , दो , तीन ) आवृति – दोगुना , तीनगुना , चारगुना , समूह – दोनों , पाँचो , सांतो , प्रत्येक हर-एक , दो-दो
१- उसे इस वर्ष तिगुना मुनाफा हुआ। – तो इस वाक्य में मुनाफा शब्द संज्ञा है , और मुनाफा तो कैसा मुनाफा तीनगुआ मुनाफा तो ये तीनगुआ शब्द निश्चयवाचक संख्याविशेषण है , तो यह संख्यावाचक विशेषण होगा। २- दोनों भाई पढ़ने में होशियार है। – इस वाक्य में भाई कौन से भाई दोनों भाई तो दोनों शब्द निश्चयवाचक सांख्यविशेषण दर्शा रहा है। तो यह संख्यावाचक विशेषण हो जायेगा।-Visheshan kise kahate hain

३- अयोध्या के प्रत्येक घर में राम की मूर्ति मिलती है। – तो इस वाक्य में घर शब्द संज्ञा है , और इस शब्द की विशेषता प्रत्येक शब्द बता रहा है , की प्रत्येक घर में , यानि की अयोध्या के हर एक घर में राम की मूर्ति है। तो हम इसे गईं सकते है , हर घर में को गईं सकते है। तो ये निश्चयवाचक संख्याविशेषण है।
४- देश का हर-एक के व्यक्ति ईमानदार है – तो इस वाक्य में व्यक्ति शब्द संज्ञा है , तो कौन सा व्यक्ति हर एक व्यक्ति , तो ये निश्चयवाचक संख्याविशेषण है।

अनिश्चयवाचक संख्याविशेषण

अनिश्चयवाचक संख्याविशेषण – जहा निश्चित संख्या न हो लेकिन हम गईं सकते है जैसे- कुछ शब्द निश्चित संख्या नहीं है ये अनिश्चित संख्या है। कुछ को गिना तो जा सकता है लेकिन लेकिन निश्चितता नहीं है की ये कितना है , तो कुछ शब्द अनिश्चयवाचक संख्या हो जायेगा। कुछ लोग , ज्यादा आदमी , कम किताबे इन सब शब्द का प्रयोग करके अनिश्चितता दर्शायी जाती है। या अनिश्चित संख्या दर्शायी जाती है।

१- कुछ लोग दुसरो को कष्ट देने में आनंदभूति करते है। – इस वाक्य में हम कुछ लोग हम गईं तो सकते है लेकिन हमे निश्चित नहीं पता की कितने लोग तो कुछ शब्द अनिश्चयवाचक संख्या है। २- ज्यादा आदमी से काम अच्छा हो ये जरुरी नहीं। – इस वाक्य में जो ज्यादा शब्द है , ज्यादा आदमी ज्यादा को हम गीन तो सकते है , लेकिन ये ज्यादा शब्द अनिश्चित है तो ज्यादा शब्द आदमी शब्द की विशेषता बता रहा है , तो आदमी संज्ञा शब्द है और जिसकी विशेषता ज्यादा शब्द बता रहा है। तो ज्यादा शब्द अनिश्चयवाचक संख्या है।

प्रश्न – Question
इन चार विकल्पों में से कौन-सा गुणवाचक विशेषण हैं।
१- यह कार
२- दो मन अनाज
३- दस रूपये
४- गोरा व्यक्ति

इन चार विकल्पों में से कौन-सा संकेतवाचक विशेषण हैं।
१- वह माकन
२- पंजाबी
३- २० लड़के
४- ५ मन चावल

इन चार विकल्पों में से कौन-सा परिणामवाचक विशेषण हैं।
१- यह घर
२- बंगाली
३- पांच बैल
४- ८ लीटर तेल

इसे भी पढ़े… Hindi Vyakaran | Visheshan kise kahate hain


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *