seo kya hai

SEO KYA HAI | FULL FORM OF SEO

Spread the love

SEO KYA HAI | FULL FORM OF SEO ON PAGE SEO कैसे करे – seo क्या है full seo कैसे करे – जितने भी नए लोग blogging में आते है उन्हें ये नहीं पता होता है की SEO KYA HAI, किस तरह seo करे अपने article का और जितने भी नए लोग होते है वह on page seo अच्छे से नहीं कर पाते है। जिससे उनका आर्टिकल रैंक नहीं कर पता तो इस लेख में मैं आप को बताऊंगा की seo क्या होता है, seo कितने तरह के होते है, full seo कैसे करते है, seo का full form क्या होता है , seo में क्या क्या आता है , tag क्या होता है, और भी बहुत सी चीजे जो आप को इस लेख में पता चलेगा और आप अपने article का सही तरिके seo कर पाओगे और आप का blog google में rank कर पायेगा। और मैं आप seo के बारे वह चीज बताऊंगा जो आज से कई साल से चला आरहा है जो गूगल का आधार इसमें बहुत काम बदलाव करता है गूगल, और seo बहुत बड़ा topic है , अगर seo पर 100 article भी लिखा जाये और seo के बारे में बताया जाये तो भी शायद पूरी तरह seo को नहीं बताया जा सकता है।-SEO KYA HAI

SEO क्या है | SEO क्या होता है | SEO KYA HAI

FULL FORM OF SEO – seo का full form – search engine optimization होता है। seo सबसे पहले 1991 में आया और 1991 में सबसे पहला वेबसाइट बना तब उसके बाद बहुत सी website बनाने लगी और उसके बाद competition भी बढ़ने लगा तो फिर seo बना लेकिन जब search engine बना तो उस time google search engine नहीं था। उस time ज्यादा femous yahoo search engine था। लेकिन seo की अच्छे से शुरुआत 1996 से होने लगा , और जो search engine 1996 में बना तब google नहीं था वह Backrub लेकिन यही Backrub बाद google हो गया।
और धीरे धीरे सभी लोगो को search engine के बारे में पता चलते गया और competition बढ़ता गया। अगर आप या मैं या कोई भी अगर किसी चीज के बारे लिखते है या कोई content डालते है तो हम search engine के माध्यम से लाखो लोगो तक हम पंहुचा सकते है , जो भी उस content के बारे में search कर रहा होगा।

2010 के पहले किसी content को रैंक करना या लोगो तक पहुंचना बहुत कठिन नहीं था लेकिन जब से लोगो के पास smartphone और internet आया तब competition बढ़ गया और भारत में 2015 के बाद बहुत ज्यादा competition बढ़ गया उसके पहले भारत में बहुत काम लोग internet use करते थे और जो लोग करते भी थे वह 2G या फिर 3G और बहतु मंहगा भी था तो भारत में 2015 के टाइम तक जो ज्यादा internet use करने वाले नहीं थे और जो थे भी वो ज्यादा संख्या में वह शहरो में ही थी गांव में गिने चुने लोग ही हर रोज इंटरनेट use करते थे। तो 2015 के पहले किसी भी content को बड़ी आसानी से rank करा सकते थे normal seo करके और बहतु ही काम शब्दो में article लिख कर rank करवा सकते थे , लेकिन आज के समय में हर field में हद तरिके से Competitions बढ़ गया है। आज के समय में अगर आप का quality content नहीं है , तो आप का article रैंक नहीं करेगा। और अगर आप को अपना blog रैंक करवाना है तो आप को practice करते रहना होगा seo (search engine optimization ) के ऊपर ताकि आप को सभी तरह के seo के विषय में अच्छे से पता चल सके।-SEO KYA HAI

SEO कितने तरह के होते है –

SEO तीन तरह के होते है 1- ON PAGE SEO , 2- OFF PAGE SEO और 3- Technical SEO

  • On-Page seoOn page seo में जो हमारे वेबसाइट या ब्लॉग में जॉब कंटेंट होता है , तो उस blog में जो हम seo करते है ताकि हमारा blog rank करे उसे On page seo कहते है।
  • Off page seoOff page seo में जो चीजे on page seo में नहीं आती है उसे हम off पेज seo कहते है , जैसे – Backlink बनाना ये off page seo में आता है।
  • Technical seotechnical seo कंटेंट से रिलेट नहीं होता है technical seo में page speed आता है और भी बहुत कुछ technical seo में आता है।

ON-PAGE SEO क्या होता है –

off page seo को कोई भी पूरी तरह से control नहीं कर पता जैसे backlink हुआ अब सभी backlink को हम पूरी तरह control नहीं कर सकते है लेकिन On page seo को पूरी तरह control कर सकते है और जिनको On page seo के विषय में पूरी तरह जानकारी है वह ON page seo करते है और उनका blog रैंक भी करता है। अगर आप को off page seo के विषय में पूरी तरह जानकारी या थोड़ी सी भी off page seo का बारे में जानकारी नहीं तो कोई बात नहीं लेकिन आप को ON page seo के विषय पूरी तरह जानकारी होनी चाहिए अगर आप ने अपने ब्लॉग में 100% on page seo कर दिए तो आप का blog जरूर रैंक कर जायेगा। तो आप on page seo को ignore कभी भी मत करियेगा ,

ON page seo भी दो तरिके से किया जाता है , एक तो on page seo में हम एक बार उस seo को पूरा कर देते है तो वह long term के लिए होता है और दूसरा जो हम जब भी नए article को post करते है तो हमे बहुत से on page seo हर बार करने होते है। 1- One time setup on page seo 2- Once in a while अब एक बार ही on page seo में जैसे , Https को सेट करना , SSL certificate सेट करना ये on page seo में आते है हमे ये बार बार नहीं करना पड़ता। और जो हमे हर बार on page seo करना पड़ता है उसमे जैसे – H1 tag को सही करना पड़ेगा H2 tag को सभी करना पड़ेगा, Alt taxt लगाना पड़ेगा तो बहुत से on page seo है जो हमे बार बार सेट करने पड़ते है।

तो मैं आप को जो basic on page seo है उसेक बारे में बताऊंगा की आप को किस तरह से on page seo करना चाहिए। और आप ये basic on page seo करके आप अपने blog को रैंक करवा सकते है। और जैसे आप का कोई keyword या आर्टिकल पहले से रैंक कर रहा तो आप को उस article को seo karke update करते रहना चाहिए, ताकि उस article की ranking बानी रहे। आप सभी लोगो को पता होगा की जब किसी का कोई आर्टिकल अगर पहले 1 नंबर पर रैंक कर रहा है तो वह 1 नंबर पर ही रैंक करेगा इसका कोई ठिकाना नहीं अगर आप का कोई आर्टिकल है वह आज 1 number पर रैंक कर रहा और शायद वही article आप का कुछ घंटो बाद वह 3 पर रैंक करने लगे तो कब और किसका आर्टिकल कितने number पर rank करने लगेगा ये किसी को नहीं पता है। तो आप को अपने आर्टिकल का seo हमेशा कुछ दिनों में हमेशा करते रहना है ताकि आप के सभी आर्टिकल की रैंकिंग बानी रहे।-SEO KYA HAI

ON PAGE SEO में क्या क्या होता है –

तो मैं आप कुछ basic ON page seo के बारे में बताऊंगा जिसे आप use करके अपने keyword को रैंक करा सकते है।
1 – आप जब भी अपने website को बनाये या आर्टिकल लिखे तो आप को यह ध्यान रखना है की आप की वेबसाइट या आर्टिकल को google के robot के नज़र में आये और वह आप के website को crawl कर सके जिससे हमारी website rank हो सके और लोगो को दिख सके, और जब हमारी website अच्छे से crawl ही नहीं होगा तो हमारी वेबसाइट की रैंकिंग भी नहीं बढ़ेगी।

2 – user friendly url – आप को इस बात का हमेशा ध्यान रखना है की आप जो भी article लिखे रहे है तो जो उसका permalink आप बनाये तो आप उसे user friendly बनाये permalink में आप अपने article में जो भी target keyword डाल रहे हो आप को उस keyword को अपने permalink में add करना हैं। और आप को अपने target keyword को अपने H1 title में भी रखना होता है , और target keyword को meta description में भी रखना होता है। तो इस तरह से आप user friendly url बना पाओगे।

3 – keyword – आप लोग को पता होगा की ये सभी लोग कहते है की keyword को अच्छे से find करना चाहिए , ताकि हमारी website rank हो पाए तो मैं आप को पता दू keyword 4 तरह के होते है , १- long tail keyword , २- short tail keyword , ३- primary keyword , ४- secondary keyword – जिस keyword को हम पहले नंबर पर target करते है उस keyword को हम primary keyword कहते है। और secondary keyword और भी कई keyword जिसके ऊपर आप target करते हो उसे हम secondary keyword कहते हैं। , long tail keyword – जो keyword 4 या 5 word के होते है उसे हम long tail keyword कहते हैं , और short tail keyword – जो keyword 1 या 2 word का होता है उसे हम short tail keyword कहते है।

4 – हमे keyword को अपने article में किस किस जगह use करना चाहिए –
हमारा जो भी target primary keyword है उसे हम अपने H1 title tag में उसे करना चाहिए और एक किसी H2 title tag में भी उसे करना चाहिए , और फिर meta description में भी हमे primary और secondary दोनों keyword use करना चाहिए , और जब भी हम अपना H1 title बनाये तो हमे अपना primary keyword title के starting में ही होना चाहिए और meta description के भी starting होना चाहिए।
keyword से पता चलता है की आपका article किस चीज के बारे में है तो इसी लिए हम H1 title के starting में ही अपना primary keyword रखते है जिससे लोगो को पता चल सके की ये article किस चीज के बारे में हैं। जब primary या secondary keyword पुरे article में जहा जहा भी है आप उसे bold कर दे जिससे google को पता lag सकते की इस keyword को भी रैंक करना है। और अपने article के photo पर Alt taxt जब भी आप लगाए उस Alt taxt में आप का primary keyword होना चाहिए। आप अपने पुरे article में primary keyword को 5 से 6 बार use करना है और उसे bold कर दिया करे।

5 – Title और description – जब आप किसी भी article का title और description बनाये तो उसे इस तरह से लिखे ताकि जब कोई किसी keyword को search करे और जब आप का article दिखे तो आप के title से और description एक अच्छी meaning निकलनी चाहिए , क्युकी जब आप का title और description meaning full होगा तभी लोग आप के website पर click करके पहुंचेंगे।-SEO KYA HAI


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *