संस्मरण क्या है

संस्मरण क्या है | संस्मरण किसे कहते है | sansmaran in hindi

Spread the love

संस्मरण क्या है। संस्मरण किसे कहते है।
संस्मरण का अर्थ – सम्यक स्मरण

जीवन की मार्मिक अनुभूतियों का स्मृति के आधार पर चित्रण करना ही संस्मरण लेखन है। यह विधा जीवन की वास्तविकता की अनुभूतिमय अभिव्यक्त होते है।
संस्मरण में लेखक अपनी अनुभूति किसी व्यक्ति वस्तु था घटना को आत्मीयता के साथ प्रस्तुतु करता है।संस्मरण क्या है

संस्मरण को इंग्लिश में क्या कहते है।

संस्मरण को इंग्लिश में मेमोयर्स ( memoirs ) कहते है। संस्मरण का संबंध लेख की स्मृति से होता है स्मृति में वही अंकित होता है। जिसने लेखक की भावनाओ को प्रभावित किया हो। हिंदी संस्मरण लेखन का कार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के समय से आरम्भ हुआ। द्विवेदी जी ने स्वयं “अनुमोदन का अंत ” सभा की सत्यता, विज्ञानाचार्य बसु का मंदिर आदि संस्मरणात्मक लेखो की रचना की।

कुछ लेखक और उनके संस्मरण

महादेवी वर्मा – पथ के साथी 1956 , स्मारिका 1971
रामवृछ बेनीपुरी – मील के पत्थर 1957
उपेन्द्रनाथक असक – ज्यादा पानी काम पराई 1959
शिवपूजन सहाय – वे दिन वे लोग 1965

हिंदी के दो संस्मरण लेखकों के नाम लिखिए

राहुल रनस्कृत्यायन – बचपन की स्मृत्या 1955 , जिनका मई कृतज्ञ 1956
बनारसी दास चतुर्वेदी – हमारे आराध्य 1952
श्रीराम शर्मा – बोलती प्रतिमा 1937 , प्राणो का सौदा 1939
अज्ञेय – स्मृति लेखा 1986

यात्रा वृतांत क्या होता है 

दुनिया का 10 सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Do You Want work from home jobA Genuine Way To Earn Money Online

Don’t miss out this chance to become part of our community,

We Will Guide You on How You Can Earn $10 To $50 Per Day in A Working Method.