You are currently viewing Raudra ras ki paribhasha, Udaharan Hindi main

Raudra ras ki paribhasha, Udaharan Hindi main

Spread the love

रौद्र रस क्या है | रौद्र रस का उदाहरण|रौद्र रस के उदाहरण

Raudra ras ki paribhasha
Raudra ras ki paribhasha

रौद्र का स्थायी भाव क्रोध होता है , जहाँ पर क्रोध , वैर , अपमान अथवा प्रतिशोध का भाव भिन्न – भिन्न संचारी भावो विभावो और अनुभवों के कारण क्रमश: बढ़ते हुए सिमा को पर कर जाये वह रौद्र रस अभिव्यक्त होता है। जब कोई आप के बड़ो की निन्दा करता है , या आप के गुरु या आप के भाई बहन या फिर दोस्त की कोई निन्दा कर रहा है तो उस वक्त आप को क्रोध आता है और वही जब क्रोध की सिमा समाप्त होजाता है या लिमिट क्रॉस होजाता है , तो वह रौद्र रस की अनुभूत होती है।

रौद्र रस का स्थायी भाव
रौद्र रस का स्थायी भाव क्रोध होता है

रौद्र रस का आलंबन
रौद्र रस का आलंबन – शत्रु, विपछी, देशद्रोही, या दुराचारी व्यक्ति।

रौद्र रस के उद्वीपन विभाव
रौद्र रस के उद्वीपन विभाव – शत्रु के द्वारा किये गए अपराध

रौद्र रस के अनुभाव
रौद्र रस के अनुभाव – आखो का लाल होना , होठ का फड़कना दाँत भीचना

संचारी भाव
संचारी भाव अमर्ष, मोह , जड़ता , गर्व , स्मृति

रौद्र रस के उदाहरण | Raudra rasUdaharan

उबल उठा शोणित अंगो का , पुतली में उत्तरी लाली।
काली बनी स्वय वह बाला , अलक अलक विषधर काली।।

उस काल मोर क्रोध के , तनु कांपने उनका लगा।
मानों हवा की जोर से , सोता हुआ सागर जगा।।

खून उसका उबल रहा था।
मनुष्य से वह दैत्य में बदल रहा था।।

रस क्या होता है पूरा पढ़े
रस कितने प्र्कार के होते है पूरा पढ़े
१- श्रृंगार रस के बारे में पूरा पढ़े
२- हास्य रस के बारे में पूरा पढ़े कई
३- करुण रस के बारे में पूरा पढ़े
४- Raudra ras के बारे में पूरा पढ़े
५- वीभस्त रस के बारे में पूरा पढ़े
६- भयानक रस के बारे में पूरा पढ़े
७- अद्भुत रस के बारे में पूरा पढ़े
८- वीर रस के बारे में पूरा पढ़े
९- शांत रस के बारे में पूरा पढ़े
१- वातसल्य रस, के बारे में पूरा पढ़े
२- भक्ति रस के बारे में पूरा पढ़े

Ras Ka Sthayi Bhav kya hai 


Spread the love

Leave a Reply