Bhakti Story Bharatiya Tyohar Hindi Kahani

Rakshabandan Kyon manaya jata hain?

  • Rakshabandan Kyon manaya jata hain?
  • Hindu Dharm mrn Rakshabandhan Kyon mahatwapurn hai.

आज हम आपको इस पोस्ट में  Rakshabandan Kyon manaya jata hain?  के  बारे में वस्त्र से बताएँगे और मुझे उम्मीद है कि    यह पोस्ट  Rakshabandan Kyon manaya jata hain?  आपको अवश्य पसंद आयेगा.

www.hindibeststory.com
Rakshabandhan

Rakshabandan Kyon manaya jata hain?

देवकी नंदन श्रीकृष्ण, जिन्हें योगेश्वर भी कहा जाता है. भगवान श्रीकृष्ण ने पपियों के भार से इस वसुंधरा को मुक्त करने के लिए मानव अवतार लिया. उन्होने अपनी योग माया से अनेकों लीलाएं की. एक बार की बात है, श्रीकृष्ण की उंगली में कुछ कार्य करते हुए चोट लग गयी और उसमें से रक्त बहने लगा, तभी द्रौपदी ने यह देख लिया, जो वहीं बैठी हुई थी. उन्होने तुरंत अपनी साड़ी का पल्लू फाड़कर श्रीकृष्ण की उंगली पर बांध दिया.
www.hindibeststory.com
Rakhi imasge
तब श्रीकृष ने द्रौपदी को वचन देते हुये कहा की “यह बंधन बांध तुमने मुझे बांध लिया. जब भी तुम मुझे पुकारोगी, मैं तुम्हें वहां खड़ा मिलूँगा. हर मुसीबत में तुम्हारा साथ दूंगा.”
www.hindibeststory.com
Rakhi free image

Rakshabandhan ki kahani

जब पांडव जुए में द्रौपदी सहित पूरा राज्य हार गये, तब दुर्योधन का भाई दुःशासन अपने अपमान का बदला लेने के लिये भरी सभा में द्रौपदी का वस्त्र हरण करने लगा. द्रौपदी मदद की गुहार लगती रही, लेकिन सभी लोग सिर झुकाए मौन बैठे रहे. कहीं से सहायता नहीं मिलने पर द्रौपदी ने मोहन को पुकारा, मोहन ने अपने वचन के अनुसार अपनी योग माया से साड़ी को इतना बढ़ा दिया कि दुःशासन साड़ी खिचते-खिचते थक गया. इस तरह भगवान श्रीकृष्ण ने द्रौपदी ली लाज बचा ली. तभी से रक्षाबन्धन मनाया जाने लगा. बहनें रक्षाबन्धन के दिन अपने भाइयों के हाथ पर रक्षासूत्र बांध कर हर प्रकार की सुरक्षा का वचन चाहती हैं.  मुझे उम्मीद है की यह आपको प्संद आई होगी और आपको पता भी चल गया होगा कि Rakshabandan Kyon मनाया जाता है.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment