Bhakti Story

महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भाग २

महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भाग २

महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भाग २ दोस्तों महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भागग १ के बाद यह पोस्ट आप लोगों को समर्पित कर रहा हूँ. उम्मीद है की पहले वाले भाग की तरह यह भी आप लोग पसंद करेंगे.

 

महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भाग २

महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भाग २

महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भाग २ अभिमन्यु

यह महान धनुर्धर अर्जुन के पुत्र थे. ये महाभारत के प्रमुख पात्रों में  से एक हैं. इन्होने अपने युद्ध कौशल से कौरव सेना में खलबली मचा दी थी. ये अपने पिता के सामान ही महान धनुर्धारी थे. इनकी मृत्यु कौरवों के तरफ से रचे गए एक व्यूह में हुई.

पुरुजित 

ये कुंती के भाई थे. महाभारत के युद्ध में पुरुजित नी पांडवों की तरफ से युद्ध किया. महाभारत के युद्ध के १४ वे दिन इनकी मृत्यु हुई. मृत्यु से पूर्व इन्होने कौरव सेना में भारी क्षति पहुंचाई.

धृष्टकेतु 

यह शिशुपाल का पुत्र था. इसने पांडव के पक्ष में लड़ा और वृहद्वाहन का वध किया.

वृहद्क्षत्र 

यह पांडव पक्ष का एक महान योद्धा था. जिसने अपने ५ भाइयों के साथ कौरव पक्ष में भरी तबाही मचाई.

सहदेव 

सहदेव मगध का राजा और जरासंध का पुत्र था. वह बहुत ही बलवान था. वह और उसकी सेना ने कौरव की सेना का बहुत नुकसान किया.

इरावन 

इरावन अर्जुन और नागकन्या उलूपी का पुत्र था. यह भी अपने पिता के समान बहुत अच्छा धनुर्धर था.

चेकितन 

यह पांडवों का मित्र था. मित्रता के कारण ही वह कौरव की तरफ से ना लड़कर पांडव की तरफ से लड़ा.

सत्यकि

यह यादव राजकुमार था. इसने पांडवों की तरफ से युद्ध में भाग किया और युद्ध के बाद जीवित बचा था.

द्रुपद

द्रुपद द्रौपदी के पिता थे. जिन्होंने अपने अपमान का बदला लेने के लियी कौरवों के खिलाफ अपने पुत्रों और सम्पूर्ण सेना के साथ भाग लिया और कौरव सेना को बहुत ही भारी क्षति दी.

नील 

यह पांडव पक्ष के महान योद्धाओं में से एक था. इसे अश्वस्थामा ने मारा.

विराट

विराट विराट नगर के राजा थे. इन्होने पांडवों के पक्ष में युद्ध किया .

द्रिष्टदयुम्न 

यह पंचाल नरेश द्रुपद का पुत्र और द्रौपदी का भाई था. इसने आचार्य द्रोण को मारने की शपथ ली थी, जिसे उसने आचार्य द्रोण को मारकर पूरा किया.

मित्रों यह पोस्ट महाभारत के प्रमुख पांडव पात्र भाग २ आपको कैसी लगी, कमेन्ट में अवश्य बताईं और इसी तरह की पोस्ट के लिए ब्लॉग को सबस्क्राइब करे. अन्य कहानी के लिए इस लिंक Maha dani Karn     पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment