Bhakti Story Interesting Facts

Mahabharat ke Pramukh Kaurav Patra 1

Mahabharat ke Pramukh Kaurav Patra 1

Mahabharat ke Pramukh Kaurav Patra 1 अभी तक आपने पांडव पक्ष के महत्वपूर्ण योद्धाओ के बारे के बारे में जाना, आईये अब कौरव पक्ष के प्रमुख पात्रों के बारे में जानते है.

 

Mahabharat ke Pramukh Kaurav Patra 1 दुर्योधन

 

दुर्योधन ध्रितराष्ट्र और गांधारी का सबसे बड़ा पुत्र था. इसे गदायुद्ध में महारत हासिल थी. इसने भगवान श्रीकृष्ण के भाई बलराम से गदा सीखी थी. वह बहुत घमंडी था और उसके इसी घमंड की वजह से महा विनाशकारी महाभारत का युद्ध हुआ.

 

दुशासन 

यह भी अपने भाई की तरह घमंडी था. यह दुर्योधन के बाद दुसरे नंबर पर था और गदा युद्ध में पारंगत था. इसी ने द्रौपदी का चीर हरण किया था. महाभारत के युद्ध में महाबली भीम ने उसका वध किया.

 

मात्रिकवत

यह कृतवर्मा का पुत्र और महान योद्धा था. इसने युद्ध में कई पांडव योद्धाओं को मृत्यु दी.

 

जयद्रथ 

महाभारत में कौरव पक्ष के प्रमुख योद्धाओं में से एक वृद्धक्षत्र के पुत्र जयद्रथ बहुत ही शक्तिशाली थे. इन्होने ही चक्रव्यूह के समय अन्य पांडवों को चक्रव्यूह के अन्दर प्रवेश करने से रोक दिया था. इन्हें भगवान शंकर का वरदान था कि एक दिन वे अर्जुन को छोड़कर सभी पांडव को परस्त करने में सक्षम होगा. इसका विवाह कौरवों की एक मात्र बहन दुशाला से हुई थी.

 

सोमदत्त 

यह राजा वाहलिक का पुत्र था. यह भीष्म का चचेरा भाई था. इसका वध  सत्यकी ने १४ वें दिन किया.

 

शकुनी

यह महाभारत के प्रमुख पत्रों में से एक और महाभारत के युद्ध का प्रमुख सूत्रधार था. इसने अपनी कुटिल योजनाओं से कई बार पांडवों के साथ छल किया. यह गांधार का राजा था जो कि इस समय अफगानिस्तान में है. यह गांधारी का भाई और कौरवों का मामा था.

 

कृतवर्मा 

यह कौरव पक्ष का बहुत ही ताकतवर योद्धा था. इसने कई बार पांडव पक्ष कके वीरों को पराजित किया. रात्रियुद्ध के दौरान भी इसने ही कौरव पक्ष की तरफ से भीषण युद्ध किया. इसकी मृत्यु सत्यकी के हाथों हुई थी.

 

चित्रसेन

यह भी कौरव सेना प्रमुख योद्धा था. इसने अक्षौहिणी सेना के साथ युद्ध किया. यह कर्ण की दूसरी पत्नी सुप्रिया का पुत्र था. इसका वध सत्यकी ने किया.

 

वृषसेन 

यह अंगराज कर्ण का पुत्र था. इसने युद्ध के शुरुवाती चरण में कौरव की तरफ से युद्ध किया. यह भी कर्ण की तरह महँ धनुर्धर था. इसका वध अर्जुन के हाथो हुआ.

 

मित्रों यह जानकारी Mahabharat ke Pramukh Kaurav Patra 1  आपको कैसी लगी, कमेन्ट में बताएं और इसके दुसरे भाग के लिए इस लिंक  Mahabharat Ke Kaurav Paksh    पर क्लिक करें और ब्लॉग को सबस्क्राइब कर लें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment