Hindi Kahani Moral Story

Joota Moral Story Jute Ki Kahani

Joota Moral Story Jute Ki Kahani जुता इसे हर कोई पहनता है. जुते से आदमी का रंग और ढंग दोनों ही बदल जाता है. अगर यह पैरों में रहे तो आदमी का ढंग बदल जाता है और अगर यह सर पर पड़े तो रंग बदल जाता है. वैसे भी आजकल जुटा बड़े ही फॉर्म में है. कब ना जाने किस नेता का रंग बिगाड़ दे कुछ कहा नहीं जा सकता है. चलिए छोडिये यह बाते….क्या आपने कभी गौर किया है कि रंग और ढंग बिगाड़ने वाला यह जुता आया कहां से….चलिए हम आपको एक कहानी बताते है…जिससे आपको पता चलेगा कि यह जूता आया कहां से.

 

Joota Moral Story Jute Ki Kahani

 

बहुत समय पहले की बात है. एक राज्य में एक बहुत ही बड़ा राजा था. उसके राज्य की प्रजा बहुत ही खुश थी. वह अक्सर अपने क्षेत्रों मीन देख-रेख के लिए जाता है. इस बार वह राज्य के उत्तरी क्षेत्र में बहुत दिनों सी नहीं गया था. उसे अपने खबरियों के माध्य्यम से उत्तरी क्षेत्र में हो रहे भ्रष्टाचार की जानकारी मिल रही थी. एक दीन राजा ने अचानक ही उत्तरी क्षेत्र में जाने की योजना बनाई. वह जब राज्य के उत्तरी क्षेत्र मीन पहुंचा तो उसे बहुत सी खामियां दिखीं. उसने मंत्रियों और दरबारियों को खूब फटकार लगाई और तुरन्त ही सारे कार्यों को पूरा करने का आदेश दिया.

Joota Moral Story Jute Ki Kahani 

Joota Moral Story Jute Ki Kahani 

 

उन सभी कमियों में से एक बड़ी कमी थी  कि सड़कें बहुत ही खराब हो गयी थीं. जगह-जगह कंकड़ – पत्थर निकल आये थे. तब उसने अपने मंत्रियों को तुरंत ही पूरी की पूरी सड़क पर चमडा बिछाने का आदेश दे दिया.

 

अब सभी मंत्री चिंता में  पड़ गए. आखिर इतने जल्दी इतनी बड़ी सड़क पर चमडा कैसे बिछाया जाए. तब एक दरबारी ने हिम्मत करके कहा राजन अगर गुस्सा ना करें तो एक बात कहूँ. तब राजा ने कहा ठीक है बोलो.

 

तब उस दरबारी ने कहा कि महाराज रोड को बनाने का प्रस्ताव पारित हो गया है. अगर रोड को अन्य तरीकों से बेहतर करके लोगों को के पैरों को चमड़े के टुकड़ों से ढकवा दिया जाए तो अच्छा रहेगा और उससे लोगों को गर्मियों में जलती हुयी सडकों, बारिश में फिसलन और सर्दियों में भी आराम मिलेगा.

 

राजा को यह बात पसंद आई और उन्होंने उस दरबारी को सम्मानित किया. इसका मोरल यह है कि कोई भी आइडिया छोटी नहीं होती, बस उसे समझाने और समझने वाला चाहिए. तो दोस्तों यह Joota Moral Story Jute Ki Kahani आपको कैसी लगी, अवश्य बताएं. अन्य कहानियों को के लिए ब्लॉग को सबस्क्राइब करें और कहानी के लिए इस लिंक Duniya ka sukh Moral Stories पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment