love story Sad love Story

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

                                                                    Do Pal Ka Pyar Sad Love Story भाग १  

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story आज पुरे ७ सालों के बाद अचानक से राहुल और प्रीती एक शापिंग माल में टकरा गए. चूँकि राहुल अपनी मां के लिए कुछ साड़ियाँ लेने आया था और प्रीती को भी कुछ खरीदारी करनी थी. इतने सालों के बाद मिलने के बाद दोनों एक दुसरे को फटी आखों से देख रहे थे.

 

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

दोनों ही कुछ बोलना चाह रहे थे लेकिन बोलने का साहस नहीं जुटा पा रहे थे. किसी तरह हिम्मत करके राहुल नी प्रीती सी पूछा ” कैसी हो ”

वही पहले जैसा प्यारा स्वर…कोई बनावट नहीं…कोई शिकायत नहीं …..यह देख कर प्रीती ने ख्यालों के सागर में डूबने के पहले खुद को संभाला और बोली ” मैं ठीक हूँ..तुम कैसे हो ”

 

इधर भी वही कश्मकश थी….राहुल ने नी ध्यान से प्रीती की तरफ देखा…..उसे साड़ी पुरानी बाते याद आने लगीं…..लेकिन उसने उन यादों को वही चहरे पर नहीं आने दिया…और हल्की  मुस्कान के साथ बोला “मैं भी ठीक हूँ ”

 

वे दोनों वहीँ माल के पास चहलकदमी करते हुए बाते करने लगे….धीरे धीरे वे फिर से खुलने लगे थे…..राहुल ने प्रीती से कहा कि तुम तो मुंबई चली गयी थी ना….यहाँ किसी काम से आई हो क्या…

 

हाँ ओ…..मेरे एक दूर के रिश्तेदार हैं…उनकी तबियत ज़रा ठीक नहीं थी तो मैं उनसे मिलने आई थी….प्रीती ने कहा

 

अच्छा हाँ..ओ फूफा जी ना…..क्या हो गया था उनको….राहुल ने थोड़ा घबराते हुए कहा

 

नहीं…नहीं कुछ खास नहीं….थोड़ी तबियत खराब थी…..अच्छा ओ सब छोड़ो..ये बताओ की और क्या चल रहा है….बच्चे…..बीबी कैसे हैं….प्रीती ने बात को बदलते हुए कहा

 

अरे शादी ही नहीं की तो बच्चे कहां से रहेंगे……राहुल ने सिरिअस होते हुए कहा

 

उसके बाद मानसी भी चुप हो गयी…काफी समय तक ख़ामोशी छाई रही….ऐसा लग रहा था जैसे दोनों अपने अपने जिन्दगी की गहराई में गोते लगा रहे हों…

 

कुछ समय की शान्ति के बाद राहुल ने कहा….अभी हमें चलना चाहिए….फिर कल यही मिलते हैं…

 

हाँ ठीक है….प्रीती ने कहा..शायद वह भी समझ चुकी थी कि इस हालात में बात करना अब ज्यादा ही मुश्किल हो जाएगा.

 

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story भाग २ 

 

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

राहुल वहाँ से निकलते ही फिर से उसी ख्यालों में डूब गया. जब राहुल की प्रीती से शादी होने वाली थी तो राहुल थोड़ा नर्वश था. वह चाहता था कि वह अपनी होने वाली जीवनसंगिनी के साथ थोड़ा समय बिठाये, उसके बारे मीन जाने समझे, उसकी पसंद नापसंद के बारे में जाने. आखिर वह नए ख्यालात वालों में से था. लेकिन उसके घर वालों को यह बात ठीक नहीं लगी. उसके घर में उसकी मां , पिता और बहन थे. यही उसका परिवार था. उन्होने कहा कि ऐसा करना गलत है. लड़की के परिवार वाले इस बारे में क्या सोचेंगे.

 

 

क्या सोचेंगे….हां..आप लोग आज भी पुराने ख्यालात में जी रहे हैं. जब तक हम एक दुसरे को थोड़ा समझ नहीं लेते तो हम अपनी पूरी जिंदगी साथ कैसे बिता सकेंगे. बस दो चार मुलाक़ात और क्या……राहुल ने गुस्से और चिढते हुए कहा

 

घर वालों के मना करने पर भी उसने यह बात प्रीती के घर वालों तक पहुंचा. प्रीती भी मोर्डन ख्यालात की लड़की थी. वह इस प्रस्ताव को ख़ुशी से मान गयी. पहली ही मुलाक़ात में दोनों एक दुसरे को पसंद करने लगे. धीरे धीरे मुलाकातों का दौर बढ़ता गया और उनका प्यार भी बढ़ता गया. सब कुछ एकदम बढ़िया हो रहा था. तय समय पर दोनों की शादी हुई. शादी के बाद भी सब कुछ एकदम सही चल रहा था कि एक दिन ऐसी घटना हो गयी कि मानो इस हसते खेलते परिवार को किसी की नजर लग गयी हो.

 

प्रीती ने अचानक से एक दिन कहा कि तुम इतना पैसा कमाते हो एक बड़ा घर क्यों ना ले लेते, जिसमे हम दोनों रह सकें.

 

“हम दोनों ” इससे क्या मतलब है तुम्हारा..राहुल ने हैरानी जताते हुए कहा

 

मतलब साफ है….मैंने तुमसे शादी की है…घर की नौकरानी नहीं हम मैं….यहाँ तुम्हारे मां…बाप और उस पनौती बहन की सेवा करूं मैं….प्रीटी ने गुस्से से कहा

 

चुप….एकदम चुप…..अब एक आवाज नहीं……राहुल ने लगभग चिल्लाते हुए कहा और उसकी तेज आवाज को सुनकर घर के बाकी सदस्य तेजी से उसकी तरफ आये और राहुल की मां ने पूछा क्या हुआ बेटा.

 

कुछ नहीं मां…..आप लोगों के प्यार ने इसे पागल कर दिया है…राहुल ने तंज कसते हुए कहा

 

तुम और तुम्हारा सारा खानदान पागल है…..क्रोध की आखिरी सीमा पर खडी प्रीती ने कहा

 

चटाक……राहुल ने प्रीती को एक थप्पड़ लगा दिया.वह अब प्रीती की इस गुस्ताखी को नजरअंदाज नहीं कर सकता था. उसके परिवार वालों को कुछ समझ नहीं आ रहा था. वे हक्के बक्के वहीँ खड़े रहे और प्रीती अपने आंसू पोंछते हुए तेजी से अपने कमरे की ओर चली गयी.

 

अरे कोई मुझे बतायेगा की यहाँ क्या हो रहा है….राहुल की पिता ने चीखते हुए कहा

 

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

 

अब राहुल सबको सारी बाते बताने लगा कि इतने में प्रीती बड़ा सा बैग लेकर निकली…..कहां जा रही हो बेटी राहुल की मां ने पूछा

 

अपने घर जा रही हूँ..अब इस घर में दुबारा कभी नहीं आउंगी…..प्रीती के गुस्से से कहा

 

रुक जा बेटी…..राहुल की मां ने कहा लेकिन अपनी मां की बात को काटते हुए राहुल ने कहा जाने दो मां…अभी उसे रोकना ठीक नहीं होगा.

 

 

  Do Pal Ka Pyar Sad Love Story भाग ३ 

 

घर में एक अजीब तरह का माहौल बन गया था. हर कोई खुद को ही दोष देता था. कई बार राहुल ने प्रीती से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन संपर्क नहीं हो सका. वह शायद राहुल की कमजोरी समझ बैठी थी कि राहुल उसके बगैर नहीं रह सकता, अब प्रीती की इस बेरुखी ने राहुल को पहले से अधिक कठोर बना दिया. उसने घर वालों से कह दिया कि अब प्रीती को कोई मनाने नहीं जायेगा और ना ही घर में कोई उसकी बात करेगा. सबको लग रहा था कि कुछ ही दिनों में सबकुछ सही हो जाएगा.

 

लेकिन शायद होनी को कुछ और ही मंजूर था.कुछ ही दिनों में तलाक का नोटिस राहुल के घर आ गया. अब आशा की अंतिम डोर भी टूट गयी थी. दरअसल प्रीती को रिश्तों की परख, रिश्तों की समझ  बिलकुल नहीं थी. वह बस पैसे को सबकुछ समझती थी, उसे इस बात का भान नहीं था कि अगर रिश्ते ही ना रहे तो पैसों की क्या बिसात रह जायेगी.

 

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

Do Pal Ka Pyar Sad Love Story

 

समय बिता और राहुल की बहन की भी शादी हो गयी. तलाक के केस की तारीख थी और उसी सिलसिले में प्रीती शहर आई हुई थी. लेकिन अब शायद इस रिश्ते की एक अलग शुरुआत होने वाली थी. अगली सुबह का इंतज़ार हर किसी को थक, लेकिन प्रीती और राहुल को अगली सुबह का बहुत ही बेसब्री से इन्तजार था.

 

अगली सुबह दोनों को बहुत सुहानी लग रही थी. आप पढ़ रहे हैं Do Pal Ka Pyar Sad Love Story . अब निश्तित समय से काफी पहले दोनों उस माल के पास पहुँच गए.

 

क्या हुआ राहुल इतनी जल्दी….क्या मेरे बिना रात नहीं कट रही थी….प्रीती ने मुस्करा कर पूछा

 

न..ना अरे ऐसी कोई बात नहीं है…राहुल ने ऐसी कहा जैसे उसकी चोरी पकड़ी गयी हो, लेकिन तभी उसने तपाक से कहा प्रीती तुम भी तो पहले ही आ गयी हो…शायद तुम भी ……वह बात पूरी कर पाता की प्रीती ने उसे गले से लगा लिया….उसकी आँखों से आंसू बह रहे थे….यह देख राहुल की आखों से भी आंसू के मोती छलक उठे…..सारे घमंड…नफ़रत…इन आंसुओं में धुल रहे थे….

 

मुझे माफ़ कर दो राहुल…मैं रिश्तों को समझ नहीं पायी थी…प्रीती ने रोते हुए कहा

 

मुझे भी माफ़ कर दो…राहुल ने कहा

 

वहा काफी भीड़ जुट गयी…लोगों ने ताली बजाकर दोनों का स्वागत किया…..प्रीती ने केस वापस ले लिया और फिर से सभी साथ रहने लगे. मित्रों मेरी यह कहानी Do Pal Ka Pyar Sad Love Story कैसी लगी, कमेन्ट में अवश्य ही बताएं और भी अन्य कहानी के लिए इस लिंक Baahon ka haar Hindi Love Story   पर क्लिक करें.

 

 

 

 

 

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment