Biography

Biography of Rajanikant In Hindi

Biography of Rajanikant In Hindi

Biography of Rajanikant In Hindi रजनीकांत जिसे भारत का बच्चा बच्चा जानता है. उनकी स्टाइल उनसे भी ज्यादा प्रसिद्ध है. दक्षिण भारत में  तो उन्हें भगवान की तरह माना जाता है. रजनीकांत आम इंसान के लिये एक उम्मीद के प्रतीक हैं. इन्होने संघर्ष के हर दौर को देखा है और शायद इसीलिए उनमे घमंड नाम की कोई चीज नहीं है.

 

Biography of Rajanikant In Hindi रजनीकांत का जीवन परिचय 

 

Biography of Rajanikant In Hindi

Biography of Rajanikant In Hindi

रजनीकान्त का नाम शिवाजी राव गायकवाड है. उनके पिताजी का नाम रामोजी राव गायकवाड है. मां का नाम रामबाई है. रजनीकांत का जन्म १२ दिसंबर १९५० को कर्नाटक के बेंगलुरु में एक बेहद मध्यमवर्गीय मराठी परिवार में हुआ था. वे अपने ४ भाई बहनों में सबसे छोटे थे.  उन्होंने मात्र ५ वर्ष की उम्र में ही अपनी मां को खो दिया. उनके पिता पोलिस में हवालदार थे.घर की माली स्थिति ठीक नहीं थी. शिवाजी ने शुरू में कारपेंटर की नौकरी कि, लेकिन उससे घर की माली हालत में कोई सुधार नहीं आया.  यह देखकर शिवाजी ने युवावस्था में ही कुली का काम करना शुरू कर दिया.. उसके बाद बी.टी. बस में बस कंडक्टर का काम शुरू किया. शायद उनकी तक़दीर में यहीं सी कुछ अछ्छा लिखा था.कहा गया है कि जिसे जहां जाना होता है, नसीब उसे वहाँ पहुंचा ही देती है. वही हुआ रजनी कान्त के साथ.

 

Biography of Rajanikant In Hindi

Biography of Rajanikant In Hindi

रजनीकांत की स्टाइल 

 

सबके काम करने का अलग-अलग तरीका होता है, लेकिन रजनी कान्त की स्टाइल सबसे जुदा थी. इसी स्टाइल के चलते वे लोगों के बीच प्रसिद्ध हो गए थे. उनके टिकट काटने और सिटी बजाने के अंदाज के लोग दीवाने हो गए थे. इसके अलावा मंचों पर वे नाटक में भाग लेते थे. उन्हें बचपन से ही फिल्मों का शौक था और यह धीरे-धीरे जूनून में बदल गया और उन्होंने चेन्नई के अद्यार फिल्म इंस्टीटयूट में दाखिला ली लिया. वहां इंस्टीटयूट मीन एक नाटक के दौरान मशहूर फिल्म निर्देशक के.बालाचंदर की नजर इस हीरे पर पड़ी और उन्होंने फिल्म अपूर्व रांगागल में किरदार दे दिया.

 

रजनीकांत की पहली फिल्म 

 

अपूर्व रांगागल रजनीकांत की पहली फिल्म थी. इसमे उनका किरदार बहुत ही छोटा था, लेकिन उनकी अदाकारी की बहुत तारीफ़ हुई. रजनीकांत के.बालाचंदर को अपना गुरु मानते हैं. उन्होंने ही रजनीकांत को तमिल भाषा सिखने की सलाह दी, जिसपर उन्होंने अमल भी किया.फिल्म चिलकम्मा चेप्पिंडी से रजनीकांत को पहचान मिली, जिसे एस.पी. मुथुरामन ने निर्देशित किया था. पहले रजनीकांत विलेन, साइड हीरो के तौर पर काम करते थे. उसके बाद एस.पी. की ही फिल्म केल्विकुर्री से उन्होंने हीरो के रूप में एंट्री ली और फिर उन्होंने   नहीं देखा. रजनी कान्त ने एक  होलीवूड फिल्म Bloodstone में भी काम किया है. रजनीकांत भारत के सबसे ए और एशिया के दुसरे सबसे   महंगे  अभिनेता हैं.

 

Biography of Rajanikant In Hindi रजनीकांत की शिक्षा 

 

रजनीकांत की शुरुआती शिक्षा ” गाविपुरम गवर्मेंट कन्नड़ मार्डन प्राइमरी स्कूल ” में हुआ और बाकी की शिक्षा ” रामकृष्ण मठ” में हुई. रजनीकांत बचपन से ही पढ़ने में बहुत अच्छे थे और उसके साथ ही उनकी आध्यात्म में भी बहुत रूचि थी. वे वहाँ होनी वाले नाटक आदि में भाग लेते थे. उनकी आगे की पढ़ाई ” आचार्य पाठशाला पब्लिक स्कूल ” से हुई.

Biography of Rajanikant In Hindi

Biography of Rajanikant In Hindi

Biography of Rajanikant In Hindi रजनीकांत को मिले पुरस्कार 

 

रजनीकान्त को पहला फिल्म फेयर अवार्ड १९८४ में फिल्म ” नल्लवमुकू नल्लवं ” के लिए मिला. १९८४ में ही तमिलनाडु सरकार की तरफ से कलाइममणि अवार्ड से नवाजा गया. 2000 में भारत सरकार के द्वारा उन्हें पद्म भूषण से नवाजा गया. सन २०१६ में उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया. इसके अलावा उन्हें बहुत से पुरस्कार मिले.

 

रजनीकांत की फिल्मे 

 

रजनीकान्त की पहली हिंदी सिनेमा की फिल्म १९८३ में आई “अंधा कानून” है. जिसमें उन्होंने अमिताभ बच्चन और हेमामालिनी के साथ काम किया. इसके अलावा उन्होंने बिल्ला (१९८०), थलपती (१९९१), अन्नामलाई (१९९२), बाशा (१९९५), मुथु( १९९५), अरुणाचलम ( १९९७), चंद्रमुखी (२००५), शिवाजी द बॉस (२००७), रोबोट(२०१०), लिंगा (२०१४) जैसी कई बेहतरीन फ़िल्में कीं.

 

मित्रों यह Biography of Rajanikant In Hindi  आपको कैसी लगी, कमेन्ट में बताएं, उसके साथ ही ब्लॉग को सबस्क्राइब कर लें और अन्य कहानी के लिए इस लिंक Biography of Maharana Pratap Panna Dhay Part 2  पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment