Biography

आमिर खान की जीवनी

आमिर खान की जीवनी

आमिर खान की जीवनी हिंदी सिनेमा के मिस्टर परफेक्शिनिस्ट आमिर खान का पूरा नाम मोहम्मद आमिर हुसैन खान है. आमिर खान चुनिन्दा स्क्रिप्ट पर काम करने के लिए जाने जाते हैं. हिंदी सिनेमा में उनका योगदान अतुलनीय है. उन्होंने एक से बढ़कर एक हिट फ़िल्में दी हैं. आमिर खान के पिता  जी का नाम ताहिर हुसैन और मां का नाम जीनत हुसैन है. आमिर खान के भाई का नाम फैजल खान और बहानों का नाम फरहत और निखत खान है. उनके पिता ताहिर हुसैन फिल्म निर्माता थे और उनके चचा नासिर हैं फिल्म निर्माता निर्देशक थे.  इमरान खान आमिर खान के भांजे हैं.

 

 

आमिर खान की जीवनी आमिर खान का जन्म कब हुआ

 

आमिर खान का जन्म १४ मार्च १९६५ को मुंबई में हुआ. चूँकि उनका परिवार और रिश्तेदार फिल्मों से जुड़े हुए हैं तो निश्चित तौर पर इसका फायदा आमिर खान को मिला. उन्हें बचपन में ही कैमरा फेश करने और काम करने का मौका मिल गया. उन्होंने ८ साल की उम्र में नासिर हुसैन की फिल्म यादों की बारात में काम किया जो कि १९७३ में आई और उसके साथ ही उसी साल अपने पिता द्वारा निर्मित फिल्म मदहोश  में काम किया.

 

आमिर खान की शिक्षा 

 

आमिर खान ने अपनी शिक्षा जे. बी. पेटिट स्कूल से शुरू की, उसके बाद ८वीं तक उन्होंने बांद्रा के सेंट एंस स्कूल में पढ़ाई की. उसके बाद माहिम के बोम्बे स्काटिश स्कूल से ९ वीं और १० वीं की पढ़ाई पूरी की. मुंबई की नरसी मोंजी से उन्होंने १२ वीं की पढ़ाई पूरी की. उन्हें टेनिस खेलना बहुत पसंद था. स्कूल के शिक्षकों की यह शिकायत रहती थी कि आमिर खान की पढ़ाई पर कम और खेलने में ज्यादा रूचि रहती है.

 

आमिर खान का विवाह 

 

आमिर खान की जीवनी

आमिर खान की जीवनी

आमिर खान का विवाह १८ अप्रैल १९८६ को रीना दत्ता से हुआ. रीना दत्ता नने फिल्म क़यामत से क़यामत तक में एक छोटी सी भूमिका निभाई थी. उनके दो बच्चे हुये जुनैद और इरा. सन २००२ में आमिर खान ने रीना दत्ता को तलाक दे दिया. उसके साथ ही दोनों बच्चों की परवरिश का जिम्मा रीना को मिला. २८ दिसंबर २००५ को आमिर खान ने किरण राव के साथ दूसरा विवाह किया. उनसे एक बेटा आजाद राव खान है.

 

आमिर खान का करियर 

 

आमिर खान ने बचपन की फिल्मों के बाद फिल्म होली (१९८४) में की. उसके बाद फिल्म क़यामत से क़यामत तक (१९८८) के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ नवोदित अभिनेता का ख़िताब मिला. सन १८८९ में आई थ्रिलर फिल्म राख से वे बहुत प्रसिद्ध हुए. ११९० का दौर उनके लिए बेहद लकी साबित हुआ. जिसमें उन्होंने दिल (१९९०), रजा हिन्दुस्तानी (१९९६), सरफरोश (१९९९), जैसी फ़िल्में की, जिसके लिए उन्हें कई पुरस्कार मिले. इसके अलावा १९९८ में एक कैनेडियन-भारतीय फिल्म Earth किया.

 

सन २००१ में उनकी होम प्रोडक्शन से फिल्म लगान आई, जो कि आते ही लोगों के दिलों पर छा गयी. उसके बाद २००५ में उनकी फिल्म मंगल पण्डे आई. उसके बाद २००६ में उन्होंने फना और रंग दे बसंती जैसी फिल्मे कीं. उन्होंने २००७ में तारे जमीं पर का निर्माण किया जिसके लिये उन्हें बेस्ट डायरेक्टर का अवार्ड मिला. उसके बाद गजनी (२००८), थ्री इडियट्स (२००९), धूम, पीके आदि फ़िल्में कीं, जिन्होंने तमाम रिकार्ड तोड़कर नए कीर्तिमान स्थापित किये. मित्रों यह आमिर खान की जीवनी आपको कैसी लगी, कमेन्ट करके बतायें और भी जानकारी के ब्लॉग को सबस्क्राइब कर लें, अन्य कहानी के लिए इस लिंक Biography of Maharana Pratap in hindi Maharana Pratap ki Jeevani पर क्लिक करें.

 

 

 

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment